valentine day

valentine day पर लड़की को देने गया था फूल
दिल में था जोश भरा और mood था cool
पहले तो bus stop पर उसका इंतज़ार किया
कांच में देख-देख कर बार-बार श्रृंगार किया
जब उसके साथ किसी और को देखा 
रह गया हक्का-बक्का
अपनी पहली ball पर ही जैसे 
पड़ गया हो छक्का
उसे छोड़ दूसरी लड़की पर हमने आँखे टिकाई
दूकान से उधारी में गुलाब की कली उठाई
उसके साथ चल दिया अब में रेस्टोरेंट
ठंडी थी पर्स की जेबें और खाली थी पेंट
फ़िल्मी स्टाइल में झुक कर हमने किया प्यार का इज़हार
पर लड़कियों के मुह पर होता है हमेशा ही इनकार
हमने तो सब कुछ कह दिया अब उसकी थी बारी
इतने में बजरंग दल वालों ने कपड़ों की इस्त्री उतारी
कान पकड़ कर हम से उठक बैठक लगवाई
अखबार में छापने के लिए फोटो भी खिचवाई
लड़की से पूछा क्या ये है आपका रिश्तेदार
पर लड़कियों के मुह पर होता है हमेशा ही इनकार
कान पकड़ कर तौबा की किसी पर नहीं है मरना
बस ट्रेन और लड़की का इंतज़ार नहीं करना
ये आदमी को बन्दर सा नचाती है
बिंदास एक छोड़ दो दूसरी आ जाती है
                                     प्रणय

1 Comment

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s